कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी

कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी

कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी

दोस्तों आज मैं आपके लिए लेकर आया हूं  सुप्रसिद्ध  कवि और युवाओं के दिलों की धडकन कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी  अगर आपको पसंद आये तो कमेन्ट करें और शेयर करें

की मेरा अपना तजरुब्बा है ,तुम्हे बतला रहा हूं में,
कोई लब छु गया था तब की अब तक गा रहा हूं में
फिर आके याद में केसे जिया जाए  बिना तड़फे
बिछुड़कर तुम सें अब कैसे जिया जाए  बिना तड़फे
जो मैं खुद ही नहीं समझा वही समझा रहा हूं में ||

*प्रेम कहानियां*

कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचेनी को सिर्फ बादल समझता है
मैं तुझ सें दूर कैसा हूं, तूं मुझ सें दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है, या मेरा दिल समझता है ||

*कविताएं*

महोब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबीरा दीवाना था तो कभी मीरा दीवानी है
यहां सब लोग कहते है की मेरी आंखों में आंसू है
जो तूं समझे तो मोती है ना समझे तो पानी है ||

* कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी *

ये दिल बर्बाद करके क्यों इसमें आबाद रहते हो
ये कैसी शौहरते मुझ को अता करदी मेरे मौला
मैं सबकुछ भूल जाता हूं पर तुम याद रहते हो ||

*प्यार भरी शायरी*

पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार क्या करना
जो दिल हारा हुआ हो उस पर फिर अधिकार क्या करना
महोब्बत का मजा तो डूबने की कसमकस में है
जो हो मालूम गहराई तो दरिया पार क्या करना ||

*दर्द भरी शायरी*

की बदलने को तो इन आंखों के मंजर कब नहीं बदले
हमारी याद के मौसम तुम्हारे गम नहीं बदले
तुम अगले जन्म में हम सें मिलोगी तब तो मानोगी
जमाने और सदी के इस बदल में हम नहीं बदले ||

कुमार विश्वास की बेहतरीन शायरी

विडियो देखें

विडियो गेलरी पर जाएं

हमारे youtube चैनल पर जाएं

हमारी एंड्राइड एप्लीकेशन  को अपने मोबाइल में डाउनलोड करें

Related posts

Leave a Reply