दिनचर्या में उपयोगी बातें

दिनचर्या में उपयोगी बातें

दिनचर्या में उपयोगी बातें –

* प्रात: जल्दी उठकर ईश्वर का स्मरण करना चाहिए।
* निश्चित समय पर शौच, दातुन, भ्रमण, व्यायाम, स्नान करना चाहिए।
* दिन के प्रारम्भ में माता-पिता आदि का वैदिक अभिवादन , उन्हें ‘नमस्ते’
कहकर करना चाहिए।
* प्रतिदिन खुली हवा में व्यायाम करें और उसमें योगासन, प्राणायाम, सूर्य
नमस्कार अवश्य करें।
* व्यायाम आदि के तुरंत बाद पसीना सूखने तक पानी न पीवे।
* हमें माता-पिता व गुरुजनों की सभी अच्छी आज्ञाओं का पालन करना
चाहिए तथा उनके चरणस्पर्श करने चाहिए।
* छोटी-छोटी बातों पर हठ करके माता-पिता को परेशान नहीं करना चाहिए।
* शारीरिक तथा मानसिक रूप से विकलांगों के प्रति दया के भाव रखते हुए,
उनकी सहायता करनी चाहिए।
* सबके साथ मित्रता, नम्रता और मधुरता का व्यवहार करना चाहिए।
* सदा सत्य बोलना चाहिए। हमें झूठ बोलकर अपने दोषों को छिपाना नहीं
चाहिए।

इन्हें भी पढ़े –*शिक्षाप्रद कहानियां*

दिनचर्या में उपयोगी बातें –

* हमें अपने आसपास सफाई का ध्यान रखना चाहिए, चाहे वह स्थान घर,
स्कूल, गली-मोहल्ला या पार्क हो।
* किसी की निंदा अथवा चुगली नहीं करनी चाहिए।
* जीवन को सदा रखते हुए अच्छे विचारों को अपनाना चाहिए।
* गलती हो जाने पर क्षमा मांग लेनी चाहिए तथा उससे शिक्षा लेकर आगे से
गलती न करने का संकल्प लेना चाहिए।
* समय-समय पर सत्संग आदि में भी जाना चाहिए।
* भाइयों, बहनों व दूसरों के साथ प्यार से रहें।
* दूसरों के साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए, जैसे हम दूसरों का अपने
साथ चाहते है।
* आलस्य को सदा के लिए त्याग दें और परिश्रम से पीछे न हटें।
* अपना गृह कार्य स्वयं करना चाहिए।
* दूरदर्शन, सिनेमा आदि देखने से प्रयत्नपूर्वक बचना चाहिए।

इन्हें भी पढ़े –*प्रेरणादायक कहानियां*

दिनचर्या में उपयोगी बातें –

* स्वदेश के प्रति स्वाभिमान रखें। जहाँ तक हो सके स्वदेशी वस्तुओं का ही
जीवन में प्रयोग करना चाहिए।
* राष्ट्रभाषा हिन्दी का ही प्रयोग करने का प्रयत्न करना चाहिए।
* आज का काम कल पर नहीं छोड़ना चाहिए। स्कूल आदि का कार्य समय
पर करना चाहिए।
* छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना चाहिए; जैसे- लेट कर नहीं पढ़ना, डेस्क
डेस्क पर नहीं झुकना व दीवारों आदि को गंदा न करना।
* पानी और बिजली का दुरुपयोग न करना।
* दुखियों और अपाहिजों की सहायता करना और उनका मज़ाक न उड़ना।
* अपनी आवश्यकताओं को कम करे। वही वस्तु चाहो जो आवश्यक हो। इसी
में सखी जीवन का रहस्य है।
* खूब चबाकर खाना चाहिए, परंतु चबाने की आवाज सुनाई न देनी चाहिए।
* हमें शाकाहारी बनना चाहिए। मांसाहार मनुष्यों का नहीं बल्कि जानवरों का
भोजन है।
* अधिक गर्म, अधिक ठंडी और अधिक चटपटी चीजें न खानी चाहिए।
* खाने से पहले और बाद में हाथ-मुँह धोने और कुल्ला करने की आदत डालें।
बैठकर लेटकर या चलते-चलते कभी न खाना चाहिए।
* किसी को ‘रे’, ‘अरे’, ‘ओ’ जैसे शब्दों से न पुकारना चाहिए। सभी को आप
जैसे शब्दों से पुकारना चाहिए।
* बड़े बात कर रहे हो तो उनके बीच में न बोलूँ।

इन्हें भी पढ़े –*अनमोल विचार*

दिनचर्या में उपयोगी बातें –
* छींक, खांसी, जंभाई के समय रुमाल आदि मुँह पर रखना चाहिए। लघुशंका
(पेशाब) के बाद हाथ धोना न भूलें।
40 दिनचर्या में उपयोगी बातें Useful things in routine
सड़क पर चलते समय :-
* सामने देखते हुए सड़क के बाईं ओर चलें।
* पढ़ते हुए या गप्पों में मस्त होकर न चलना चाहिए।
* शहर की सड़कों को पार करते समय सिपाही के अथवा बत्तियों के संकेत
को देख लें।
* मन में कुछ अन्य सोचते हुए न चलें।
* कोई पदार्थ खाने के बाद खाली पैकेट, छिलके आदि रास्ते में न डालें।

 विडियो गेलरी पर जाएं

हमारे YouTube चैनल  पर जाएं

हमारी एंड्राइड एप्लीकेशन को अपने मोबाइल में इंस्टाल करें और पाए फ्री गिफ्ट रोजाना

Related posts

Leave a Reply