रसीले होंठ शायरी

रसीले होंठ शायरी

रसीले होंठ शायरी

रसीले होंठ शायरी

पंखुडियां ये गुलाब की सी लगती है
मस्ती इनमें शराब की सी लगती है ,
तभी तो सब आशिक तुझपे मरते है
जान अपनी यूंही  नहीं न्योछावर करते है  ||

प्यार और महोब्बत शायरी

तेरे होंठों की लाली देखकर  दिल मेरा मचल जाता है
कहां सें  चुराई  है ये लाली दिल में बस यही ख्याल आता है
जाम जब इनसें छलकने लगता है
हर कोई बस बहकने लगता है  ||

 

हर बार यूंही अजीब हुआ करता है उनके बात करने का अंदाज़
मेरे होंठ पर होंठ रखकर कहते है
कुछ बोलते क्यों नहीं  ||

एक आशिक की कहानी

हमें देखकर जब  वो अपने होंठो तले उंगलियाँ  दबा लेती है
भोली सुरत तिरछी नजर उसकी  दिल मेरा जला देती है

लहराती जुल्फे , कजरारे नयन , और ये रसीले होंठ
बस कत्ल बाकी है हमारा , औज़ार तो सब पुरे हैं पास तुम्हारे ||

 

होंठ तेरे बड़े नशीले है सनम,नेन तेरे महखाने है
शौंक सें हमें पिलाओ हम तेरे दीवाने है ,
यूं न हमसें नजरे तुम फेरना हम हो जायेंगे पागल
जान हमारी निकाले है तेरी तिरछी नजरों का ये काजल  ||

मां का दर्द

भीगे होंठ तेरे देख कर प्यासा दिल मेरा बोला है
न हिला जो आज तक वो  ईमान मेरा डोला है  ||

 

क्यों लाल आंखें और होंठ शबनमी है ?
महखाने सें पीकर लौटे हो या खुद शराब हो  तुम ||

घूँघट में छुपाये नहीं छुपती है  तेरे इन होंठों की लाली
खिला देंगे फूल इसमें तूं बना ले हमें अपने बाग़ का माली  | |

रसीले होंठ शायरी विडियो देखें  –


विडियो गेलरी पर जाएं

हमारे यूट्यूब चैनेल पर जाएं

हमारी एंड्राइड एप्लीकेशन को अपने मोबाइल में डाले ||

Use G Suits For your Website

इन्हें भी पढ़ें

होंठों को प्राकर्तिक रूप सें सुंदर बनाने के उपाय

दांतों को मोतियों की तरह चमकदार कैसे बनाएं

गर्मी में तेज धुप सें बचने के उपाय

एलर्जी सें कैसे बचे

 

 

 

 

 

 

 

Related posts

Leave a Reply