Bal Divas Shayari Status kavitayen

Bal Divas Shayari Status kavitayen

Happy Children Day 14 नवम्बर बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ चाचा जी का था बच्चों सें गहरा नाता इसीलिए तो बच्चों को बाल दिवस इतना भाता छोटा बड़ा हर बच्चा इस दिन बस मस्त हो जाता Copy शायरी बाल दिवस पर सब बच्चे मिलकर गाये हम हर बार यूँ ही ये बाल दिवस मनाये झोली हमारी मीठी मीठी टोफियों सें भर जाये Copy शायरी कहानी कविता आज हम सुनायेंगे सब टीचर का दिल हम बहलायेंगे टीचर जी आज तो जरूर हमें कुछ खिलाएंगे जी भरकर आज कक्षा में हम चिलायेंगे…

Read More

Atal Bihari Vajpayee Ki 13 atal Kavitaayen

Atal Bihari Vajpayee Ki 13 atal Kavitaayen

अटल जी की 13 अटल कवितायें (कविता संग्रह ) पंद्रह अगस्त का दिन कहता: आज़ादी अभी अधूरी है। सपने सच होने बाकी है, रावी की शपथ न पूरी है॥ जिनकी लाशों पर पग धर कर आज़ादी भारत में आई, वे अब तक हैं खानाबदोश ग़म की काली बदली छाई॥ कलकत्ते के फुटपाथों पर जो आँधी-पानी सहते हैं। उनसे पूछो, पंद्रह अगस्त के बारे में क्या कहते हैं॥ हिंदू के नाते उनका दु:ख सुनते यदि तुम्हें लाज आती। तो सीमा के उस पार चलो सभ्यता जहाँ कुचली जाती॥ इंसान जहाँ बेचा…

Read More

fathers Day special

fathers Day special

fathers Day special fathers Day special कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता, कभी  धरती तो कभी आसमान है पिता, जन्म दिया है अगर मां ने जानेगा जग जिससें वो पहचान है पीता ||   कभी कंधे पर बैठकर मैला दिखाता  है पिता कभी बनके घोडा घुमाता है पिता, मां अगर पेरों पे चलना सिखाती है , तो पेरों पे खड़ा होना सिखाता है पिता || मां का दर्द कभी रोटी तो कभी पानी है पिता , कभी बुढ़ापा तो कभी जवानी है पिता, मां अगर है मासूम सी लोरी…

Read More

हद हो गई

हद हो गई

हद हो गई तेरी हद हो गई वाह रे जमाने तेरी हद हो गई बीवी के आगे मां रद्द हो गई बड़ी मेहनत सें जिसने तुझे पाला आज वो मोहताज हो गई कल की छोकरी तेरी सरताज हो गई वाह रे जमाने तेरी हद हो गई ||   पेट पर सुलाने वाली पेरों  में सो रही है बीवी के लिए लिम्का मां पानी को रो रही है सुनता नही था कोई वो आवाज देती सो गई वाह रे जमाने तेरी हद हो गई || —होठ पर शायरी— मां मांजती बर्तन…

Read More

मां की याद में कविता

मां की याद में कविता

मां की याद में कविता मां की याद में कविता मां मैंने किस्मत सें तुम्हे पाया है कितना खुशनसीब हूं मैं जो तूने मुझे अपना दूध पिलाया है; तेर इस दूध का कर्ज ना मैं कभी चुका पाउंगा मां न जाना मुझे कभी छोड़ के, तेरे बिना मैं जी नहीं पाउंगा || इन्हें भी पढ़ें —मेहन्दी के हाथ दिखाकर रोई – तूने मुझे गोदी में अपनी झुलाया है खुद जागी पर मुझे गहरी नींद सुलाया है मेरे रोने पर तूं दोड़ कर चली आती थी सारे काम काज तेरे छोड़…

Read More