Rose Shayari Gulab Pr Shayari

Rose Shayari Gulab Pr Shayari

Rose Shayari Gulab Pr Shayari Rose Shayari Gulab Pr Shayari किसी ने क्या खूब कहा है  अगर गुलाब देने सें महोब्बत हो जाती तो माली सारे शहर का  महबूब बन जाता  ||   जाने क्यों अब चेहरे शर्म सें गुलाब नहीं होते जाने क्यों अब मस्त मोला मिजाज नहीं होते पहले बता दिया करते थे दिल की बातें जाने क्यों अब चेहरे खुली किताब नहीं होते || —होठ पर शायरी— मैंने कब कहा तूं मुझे गुलाब दें या फिर अपनी महोब्बत सें नवाजदे आज बहूत उदास है मन मेरा गेर…

Read More

Good Morning

Good Morning

Good Morning शायराना अंदाज़ में कबूल करें नजराना आ गई नयी सुबह लेकर नया फसाना दोस्त अपनी मुस्कान सें इसे शुरू करें यही है अनमोल खजाना || प्यार की शायरी नए दिन की नयी सुबह का अंदाज़ सारे दिन की झोली में छिपे है बहूत राज हमको आपको मिलना है आज तो आइये ख़ुशी ख़ुशी करते है इस दिन का आगाज मां का दर्द प्यारी सी नयी सुबह में हम आपको सताने आ गए अपने हाथों सें आपको गरमा गर्म चाय पिलाने आ गए खुश हो जाओ आप आपके सारे…

Read More