khol de pankh mere

khol de pankh mere



khol de pankh mere

हिंदी शायरी स्टेटस

खोल दे पंख मेरे कहता है परिंदा,अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी,अभी पूरा आसमान बाकी है,
लहरों की बेबसी को समन्दर की ख़ामोशी मत समझ ऐ नादान,
जितनी गहराई अन्दर है बाहर उतना तूफ़ान बाकी है

khol do pankh mere

ShareOn Whatsapp

इन्हें भी पढ़ें :-अनमोल विचार


तजुर्बा इंसान को गलत फैलसे सें बचाता है लेकिन,
ये भी सच है की तजुर्बा उसे गलत फैसले सें ही मिलता है
khol do pankh mere

ShareOn Whatsapp

इन्हें भी पढ़ें :-रुला देने वाली प्रेम कहानी


जो इंसान कभी गलतियां नहीं करता है
उसने कभी कुछ नया सीखने की कोशिश भी नहीं की होगी
khol do pankh mere

ShareOn Whatsapp

शाम सूरज को ढलना सिखाती है,
शमा परवाने को जलना सिखाती है,
गिरने वालों को होती तो है तकलीफ,
पर ठोखर ही है जो इंसान को चलना सिखाती है
khol do pankh mere

ShareOn Whatsapp


विडियो देखें :-

और विडियो देखें

Royalty Free Music aur Video Download Kare

Youtube

देशी फनी कॉमेडी विडियो देखें

Facebook


Related posts

Leave a Reply